शादी की बात 😚👸😚

अब उठ भी जा बेटा, देख 9 बज गए.. लडके वाले 12 बजे आने वाले हैं! मां उठाकर फिर अपने काम पर लग गई, पहले भी 2 बार उठा चुकी पर पलक का मन बिल्कुल भी नहीं है आज किसी से मिलने का..

ऐसा नहीं है कि वो शादी नहीं करना चाहती, लेकिन कितने ही लड़कों से मिल चुकी वो.. अब कोई उम्मीद नहीं उसे अपनी पसंद का लड़का मिलने की..

ये तो अब एक किस्सा बन चुका, लगभग हर इतवार किसी ना किसी से मिलना.. एक आशा की किरण जगाना, वही बातें दोहराना और अंत में निराशा से रिश्ता ठुकराना..

वैसे 70 फीसदी रिश्ते तो उसी ने ना कहे, कहीं लडके के संस्कार ठीक नहीं, कहीं आदतें, कहीं अच्छी नौकरी नहीं और कहीं नैन नक्श ठिकाने पर नहीं..

कारण चाहे जो भी रहा हो, पर अब गिनती 30 से ज्यादा हो गई.. शादी करने का दबाव साफ देखा जा सकता है.. अब घर वाले ज्यादा इंतजार नहीं करने वाले..

इसी परेशानी के चलते पलक उठना ही नहीं चाहती, मिलना ही नहीं चाहती पर क्या करे, बेमन से धीरे धीरे तेयार होना शुरू किया.. 12 बजने ही वाले हैं अब हर कोई बेकरार है एक नए लड़के से मिलने को..

अपनी आंखें बंद किए, पलक बस ये प्रार्थना कर रही ईश्वर से कि आज तो बस रिश्ता जमा ही दो.. जो मेरा जीवनसाथी है, उससे मिला दो.. अब और नहीं गुजरता वक़्त इस तरह..

घंटी बजी, पलक की धड़कने तेज हुई.. क्या होगा आगे, क्या समीर ही है वो जिसकी तलाश है…

यही सोचते सोचते वो अपना रूप निखारने फिर आइने के सामने चली गई..

कितना मुश्किल है हर एक लड़की के लिए इस तरह बार बार परीक्षाओं से गुजरना.. ये एक पल नहीं बल्कि जिंदगी भर का सवाल है.. आज पलक की खोज पूरी होगी या फिर अभी कुछ और वक़्त है उसके सपने पूरे होने में…

🤔💃🕺👸🎊🤔🥰😑💃🕺😘